सेक्स की कमी से नहीं बल्कि इस कारण टाइट हो जाती है वजाइना


फीमेल बॉडी का सबसे लचीला या फ्लैग्जे़बल पार्ट है वजाइना। अक्सर महिलाओं और पुरुषों के मन में यह जिज्ञासा होती है कि क्या लंबे समय तक सेक्स ना करने, सेक्स टॉय का यूज ना करने से वजाइना का आकार छोटा और टाइट हो जाता है...

बात इंटरकोर्स की हो, पीरियड्स के दौरान टैंपॉन लगाने की हो, सेक्स टॉय का यूज करने की हो या फिर चाइल्ड बर्थ से जुड़ी हो। वजाइना इन सभी प्रॉसेस के दौरान अपने आकार को बढ़ा लेती है जबकि इन प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद यह वापस अपने आकार में आ जाती है।


ऊपर की स्लाइड में बताई गई स्थितियों से अलग भी एक वक्त ऐसा होता है, जब वजाइना अपने आकार को नैचरल तरीके से बड़ा कर लेती है और यह होता है सेक्स के दौरान फॉरप्ले और उत्तेजना की चरम सीमा पर पहुंचने पर।

उत्तेजना के वक्त वजाइना का ऊपरी भाग कुछ लंबा और बड़ा हो जाता है। जिस तरह पीनिस का साइज बढ़ता है, उसी तरह वजाइना की डेप्थ भी बढ़ती है। पेनिट्रेशन के दौरान वजाइना की मसल्स फैलती और सिकुड़ती रहती हैं।


कुछ महिलाओं और पुरुषों को लगता है कि अगर सेक्स लाइफ में लंबा ब्रेक लिया जाए तो वजाइना टाइट हो जाती है। लेकिन कई बार महिलाएं लंबे समय बाद सेक्स करने में दर्द के कारण झिझकती हैं।

अगर किसी महिला ने लंबे समय तक किसी भी वजह से सेक्स नहीं किया हो और फिर सेक्स के दौरान किसी कारण से वजाइना में जरूरी चिकनाहट और गीलापन ना होने के कारण भी सेक्स के दौरान दर्द होता है।


महिलाएं 45 की उम्र के बाद मेनोपॉज की स्थिति से गुजरती हैं। इस दौरान कई हॉर्मोनल चेंजेज के कारण कभी सेक्स की इच्छा नहीं होती तो कभी वजाइना में जरूरी चिकनाहट और गीलापन नहीं आता। इस कारण भी दर्द होता है और टाइटनेस का अहसास हो सकता है।

जो महिलाएं लंबे समय तक सेक्स नहीं करती हैं या अपनी सेक्स लाइफ में बहुत ऐक्टिव नहीं रहती हैं, इस कारण उनकी वजाइना वापस अपने नेचरल साइज में आ जाती है, जिस कारण उन्हें लगता है कि टाइटनेस बढ़ गई है।
loading...

No comments