सूखे नाले में पड़े थैले को देखकर भौंक रहे थे कुत्ते, महिला ने पास जाकर देखा तो बिलख रहा था मासूम


गाजियाबाद जिले के डासना क्षेत्र में सोमवार को एक नवजात शिशु सूखे नाले में मिला। पुलिस ने यह जानकारी दी है। पुलिस के अनुसार, नन्हे लड़के को सबसे पहले शबनम ने देखा था, जो मसूरी पुलिस थाने के अंतर्गत पड़ने वाले पड़ोस के इलाके की निवासी है।

शबनम ने कहा, "सुबह 5 बजे करीब मैं अपने जानवरों के लिए चारा लेने जा रही थी, कुछ दूर जाने पर मैंने देखा कि कुछ कुत्ते सूखे नाले पर पड़े बोरे के थैले को देखकर भौंक रहे थे।" उसने कहा, "मैंने पाया कि थैले से बच्चे के रोने की अवाज आ रही है। खोलने पर पता चला कि उसमें एक नवजात लड़का था।" शबनम ने कहा, "मैं बच्चे को घर ले आई, उसे गर्म पानी से नहलाया और उसे नए कपड़े पहनाए।"

महिला के पड़ोसी इरफान मामा ने कहा, "कुछ देर बाद, कुछ पुलिसकर्मी आए और बच्चे को अपने साथ ले गए।" गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार ने कहा, "हमने बच्चे को देखभाल के लिए सरकारी अस्पताल को सौंप दिया है।" शबनम ने कहा कि उसने मसूरी पुलिस थाने तक पुलिसकर्मियों का पीछा किया और फिर कलक्ट्रेट पहुंचकर उनसे कहा कि वह बच्चे को गोद लेना चाहती है।

शबनम ने बताया, "तीस वर्ष की आयु में मेरा तलाक हो चुका है और मैं अकेले रह रही हूं। मैंने सोचा कि मैं बच्चे को खुदा की नेमत समझकर अपने पास रख लूंगी। मुझे गोद लेने के लिए कानूनी नियमों की कोई जानकारी नहीं है।" शिशु पर महिला के दावे के बारे में, पुलिस ने कहा, "किसी को बच्चा सौंप देना हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं है। मजिस्ट्रेट के माध्यम से इसे अपनाने के लिए कानूनी प्रक्रिया का पालन करना होगा।" महिला को उदास देख इरफान मामा ने कहा, "मैं कानूनी तौर पर बच्चे को हासिल करने के लिए आवेदन करूंगी। हम इसके लिए एक वकील भी करेंगे।"
loading...

No comments