loading...

किसी भी रिश्ते में पहली लड़ाई या नोकझोंक के बाद मन में आते हैं ऐसे विचार


बिना नोकझोंक के शायद ही कोई रिश्ता होता है। रिलेशनशिप में कभी न कभी हर किसी की पहली बार, अपने पार्टनर से लड़ाई जरूर होती है। यह भी कहा जाता है कि रिलेशनशिप में यह तकरार जरूरी होती है ताकि आप एक-दूसरे के मिजाज को समझ सकें और परिस्थितियों को हैंडल करना भी सीख सकें। किसी भी रिश्ते में नोकझोंक, मनमुटाव और लड़ाई के बाद हमारे दिमाग में कई तरह के ख्याल आते हैं। आइए जानते हैं रिश्ते में पहली लड़ाई के बाद दिमाग में किस तरह के ख्याल आते हैं...

रिलेशनशिप में पहली लड़ाई के बाद मन में सबसे पहले जो ख्याल आता है वह ब्रेकअप का होता है। दरअसल, जैसे ही पहली बार रिलेशनशिप में आपकी पार्टनर के साथ तकरार और नोकझोंक होती है तो मन में पहला ख्याल आता है कि कहीं अब आपका रिश्ता खत्म तो नहीं हो जाएगा।

रिलेशनशिप में पहली लड़ाई के बाद अक्सर लड़के-लड़कियां खुद के लड़ाकू प्रवृत्ति के होने के बारे में सोचने लगते हैं। लड़का हो या लड़की उन्हें लगने लगता है कि उनका पार्टनर यह तो नहीं सोचेगा कि वे लड़ाकू मिजाज की हैं। दरअसल, रिश्ते में पहली लड़ाई के बाद दोनों के मन में अपराधबोध का भाव आ जाता है। दरअसल, नोकझोंक के वक्त तो हम पार्टनर को जो मन में आए कह देते हैं लेकिन बाद में इसके बारे में सोचकर पछताते हैं।
 
लड़के और लड़कियां, रिलेशनशिप में पहली लड़ाई के बाद अपने रिश्ते के भविष्य को लेकर चिंतित रहने लगती हैं। दोनों को लगने लगता है कि कहीं रिलेशनशिप की यह पहली लड़ाई उनके भविष्य के रिश्ते को प्रभावित न कर दें और उनके बीच का मनमुटान ज्यादा न बढ़े

No comments